Bank Account

Bank क्या है, बैंक के प्रकार, बैंक में खाता कैसे खुलवायें व् दस्तावेज़

अगर आप Bank अकाउंट से जुड़ी सभी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो यह पेज आपके लिए अधिक उपयोगी होगा।

क्योकिं इस पेज के द्वारा आपको बैंक अकाउंट की उन सभी बातों का ज्ञान प्राप्त होगा जो आपको पता होना जरूरी है।

क्योकिं आप किसी भी प्रकार के राशि का आदान- प्रदान बैंक अकाउंट द्वारा ही करते है।

Bank अकाउंट क्या है ?

बैंक अकाउंट वे स्थान होते है जहाँ पर बैंक के कस्टमर द्वारा जमा की गई राशी को पूर्ण रूप से संरक्षित किया जाता है।

Bank अकाउंट न केवल राशी को बल्कि कीमती आभूषण जैसे सोना और चांदी से बने गहने को भी सुरक्षा प्रदान करती है। बैंक अकाउंट लोगो के लिए वह विश्वसनीय संस्था है जहाँ वे बिना कुछ सोचे समझे अपनी जीवन पुंजी को जमा करते हैं।

बैंक अकाउंट से लॉन :

Bank अकाउंट न सिर्फ राशी और अन्य भुगतान के लिए होते हैं बल्कि आपको लॉन देने में भी सहायक होते हैं पर यह आपको कितने का लॉन चाहिए यह आपके बैंक अकाउंट की अवधी पर निर्भर करता है।

बैंक अकाउंट की ज़रूरत :

जैसा कि आप जानते हैं कि सभी प्रकार के राशी कार्य ऑनलाइन UPI द्वारा किए जाते हैं चाहें वह महीने में आने वाली सैलरी हो या बच्चो के स्कूल में भुगतान होने वाली महीने की राशी हो, बिल भूगतान, पानी का बिल आदि ये सभी भुगतान बैंक अकाउंट द्वारा किए जाते हैं जो बैंक द्वारा सुरक्षित होते हैं।

बैंक अकाउंट को खोलने के लिए ज़रूरी दस्तावेज :

यदि आपका अभी तक बैंक अकाउंट नहीं खुला है तो अपने नजदीकी बैंक शाखा में जाकर अकाउंट खुलवा सकते है इसके लिए आपको निम्न दस्तावेज़ देने होंगे –

  • आधार कार्ड
  • दो फ़ोटो पासवर्ड साइज की
  • पैन कार्ड
  • गैरेंटर बैंक अकाउंट को खोलने के लिए कई बैंक गैरेंटर की मांग करते हैं, जिनके सिग्नेचर लेते हैं गैरेंटर के तौर पर, ये सभी चीजें आप के पास बैंक अकाउंट खोलते समय होनी चाहिए।

बैंक अकाउंट कैसे खुलवायें ?

बैंक अकाउंट को आप दो प्रकार से खुलवा सकते हैं ऑनलाइन नेट-बैंकिंग द्वारा या खुद बैंक की शाखा में जाकर।

अभी हम बात करेंगे की बैंक शाखा जाकर कैसे खाता खोला जाता है।

बैंक द्वारा आपको बैंक अकाउंट खोलने के किए एक प्रकार का फार्म उपलब्ध कराती है जिसमें बैंक खाते से जुड़ी आपकी निजी जानकारी को पूछा जाता है जिसको आपको फॉर्म में भरना पड़ता है।

इस फार्म को भरने के साथ – साथ आपको कुछ राशी को जमा कराना होता है जैसे – 1000, 500 जो आपको खाता खोलने में मदद करते हैं, और यह सभी बैंको में नहीं होता तथा जब आप फार्म को जमा करते है।

उस समय बैंक द्वारा आपको बैंक अकाउंट का नंबर प्राप्त होता है जिसमे राशी का भुगतान करना होता है और आपका बैंक अकाउंट 2 से 3 दिनों में खुल जाता है और आपको बैंक पासबुक दिया जाता है।

बैंक से मिलने वाली ज़रूरी चीजें ?

  • Bank की पासबुक
  • एटीएम
  • चैकबुक
  • इंटरनेट बैंकिग का IDT तथा पासवर्ड

ये सभी चीजें आपको तब उपलब्ध होती है जब आप फार्म में दिए गए ऑप्शन को भरते हैं।

बैंक अकाउंट के प्रकार :

बैंक अकाउंट 4 प्रकार के होते हैं।

और इनका इस्तेमाल इनके अनुसार होता है जिनका आपको आगे पता चलेगा।

बचत खाता क्या है ?

बचत खाता बहुत ही उपयोगी माना जाता है।

क्योंकी इसे कोई भी व्यक्ति चाहे वह स्टूडेंट, किसी प्राइवेट सेक्टर में कार्य  करता  हो या सरकारी कर्मचारी हो वह अपना सेविंग अकाउंट खोल सकता है।

इसके अपने नुकसान और फायदे भी होते हैं जैसे फायदे-बैंक द्वारा आपको चैकबुक, इंटरनेट बैंकिंग, एटीएम तथा RBI द्वारा आपको 4 प्रतिशत ब्याज उपलब्ध कराई जाती है।

नुकसान –

  • RBI द्वारा सभी बैंको को उनके अनुसार ब्याज निर्धारित करने की छूट।
  • बचत खाता का इस्तेमाल आप बिजनेस में नहीं कर सकते जिस कारण आप बैंक द्वारा निर्धारित राशी का आदान- प्रदान कर पाते है।

चालू खाता क्या है ?

चालू खाता वह अकाउंट होते जिनका उपयोग बिजनेस जैसे बड़े काम में किया जाता है ।

लाभ-

  • चालू खाता मै निर्धारित राशी का नहीं बल्कि ज्यादा से ज्यादा राशी का आदान – प्रदान किया जा सकता है।
  • दिन में कितनी भी बार आदान- प्रदान कर सकते हैं।

नुकसान –

  • बैक द्वारा किसी भी प्रकार का ब्याज उपलब्ध नहीं कराया जाता हैं।
  • बैंक द्वारा चालू खाता में मिलने वाली सुविधाओं का भुगतान भी करना पड़ता जो बैंक अकाउंट के धारक को करना होता है।
  • आप चालू खाता का खोलते हैं तो आपको उसे चालू रखने के लिए निर्धारित राशी जमा करनी पड़ती हैं।

डिपोजिट खाता क्या है ?

डिपोजिट खाता उन अकाउंट को कहते हैं जिसमें एक निश्चित राशी को निश्चित अवधी तक के लिए जमा कराया जाता है जो बैंक के लिए निर्धारित समय लाभदायक होता है।

लाभ –

  • जमा की गई राशी के साथ तय की गई ब्याज की भी प्राप्ति होती है।
  • यह बैंक अकाउंट इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करके भी खोला जा सकता है।
  • डिपोजिट खाता को सिंगल या जॉइंट दोनों प्रकार से खोले जाते हैं।

नुकसान –

  • डिपोजिट खाता में निर्धारित समय से पहले पैसा निकालने की सुविधा उपलब्ध नहीं होती।

फिक्स डिपोजिट खाता क्या है ?

इस तरह के अकाउंट का उपयोग वे लोग कर सकते हैं जिनको अपनी राशी को लम्बे समय तक उपयोग में नहीं लाना चाहते उनके लिए यह यूज़ फुल अकाउंट होता है।

लाभ –

  • उपभोगता को फिक्स डिपोजिट में बहुत ज्यादा ब्याज की प्राप्ति होती है।
  • फिक्स डिपोजिट खाता को इंटरनेट बैंकिंग का उपयोग करके भी खोला जा सकता है।

नुकसान –

  • फिक्स डिपोजिट में निर्धारित समय से पहले पैसा निकालने की सुविधा उपलब्ध नहीं होती।
  • इंटरेस्ट भी डिपॉजिट के हिसाब से तय किया जाता है।

आशा करते हैं Bank अकाउंट से जुड़ी यह सभी जानकारी आपके लिए अधिक उपयोगी होगी।

धन्यवाद

इन्हे भी पढ़ें :

अंतिम शब्द :

आशा करता हूँ की आपको बैंक क्या है और बैंक में खाता कैसे खुलवायें जानकारी सही लगी होगी।

सही लगे तो दोस्तों को भेजें।

कोई प्रश्न है तो कमेंट करें और हमें यूट्यूब पर फॉलो करें।

admin

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम शिव है और Help Guide India ब्लॉग पर आपका स्वागत है यहाँ पर आपको Employee Help, Study, Internet, Technical, Computer नॉलेज से सम्बन्धित सभी जानकारी हिंदी भाषा मिलेंगी, Help Guide India वेबसाइट का एक ही मकसद है आपकी मदत करने में आपकी मदत करता है इसलिए इस Hindi Blog से जुड़े रहने के लिए हमें Youtube Channal व् Facebook पर फॉलो करें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll to top