Hacker

Hacker क्या है ? हैकर के प्रकार एवं हैकर की सम्पूर्ण जानकारी

क्या आप Hacker से जुड़ी सभी जानकारी के बारे में जानते हैं या जानना चाहते हैं तो यह आर्टिकल आपको हैकर से जुड़ी उन सभी बातों को चरणबद्ध तरीकों से बताएगा।

जिससे आपको हैकर क्या है के बारे में पूर्ण जानकारी प्राप्त हो सके।

Hacker किसे कहते है?

जैसा कि हम जानते हैं हैकर मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते हैं।

तथा उनके कार्य भी उन्हीं के अनुसार बटें होते हैं जिन्हे हैकर कहते है।

जो आपके इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में आपके द्वारा लगाए गए पासवर्ड या सिक्युरिटी को अपनी तकनीकी द्वारा हैक कर लेते है उन्हें हम हैकर कहते है।

हैकर कितने प्रकार के होते है ?

हैकर मुख्य रूप से तीन प्रकार के होते हैं और इनके कार्य भी अलग-अलग होते हैं जैसे –

  • वाइट हैट हैकर।
  • ब्लैक हैट हैकर।
  • ग्रे हैट हैकर आदि।

वाइट हैट हैकर।

व्हाइट हैट हैकर्स को एथिकल हैकर्स के नाम से भी जाना जाता है और व्हाइट हैट हैकर डिफेंस तथा बहुत सारी ऑर्गेनाइजेशन के लिए काम करते हैं।

तथा आप देखते हैं जितनी भी बैंक कंपनी होती है उनके पास वाइट हैट हैकर की संख्या बहुत ज्यादा होती हैं।

वाइट हैट हैकर की जॉब जिन्हें एथिकल हैकर बोला जाता है ऐसी जॉब जिस के अंदर वे डिफेंस के लिए काम कर सके तथा ब्लैक हैट हैकर्स के खिलाफ लड़ सके पर व्हाइट हैट हैकर की पावर ब्लैक हैट हैकर से कम होती है।

क्योंकि व्हाइट हैट हैकर एक नॉन कंपनी के लिए काम करने वाला हैकर होता हैं पर उनकी आइडेंटिटी पब्लिक के सामने एनोनिमस रखते हैं।

क्योंकि एथिकल हैकिंग का कार्य छोटा-मोटा नहीं होता उसके लिए अलग-अलग तरह के कोर्स आते हैं अगर हम व्हाइट हैट हैकर के कोर्स की बात करें तो यह बिल्कुल भी मुश्किल नहीं होते ब्लैक हैट हैकर्स की तुलना में।

  1. ब्लैक हैट हैकर।

ब्लैक हैट हैकर की आइडेंटिटी हमेशा एनोनिमस मार्क्स मतलब ब्लैक मार्क्स होती हैं।

यह किसी भी बड़ी से बड़ी कंपनी को हैक कर सकते हैं।

तथा ये वायरस क्रिएट करते हैं ताकी वे दूसरे सिस्टम को पुरी तरह डिस्ट्रॉय कर सकें और जितनी भी रैंडम अननोन वेबसाइट होती हैं।

उनके अंदर वायरस को जनरेट कर देते हैं और वह उसके अंदर प्रतिक्रिया करता हैं पर मोस्ट प्रोबेबली व्हाइट हैट हैकर बहुत ज्यादा होते है तथा उनका सिक्योरिटी लेवल बहुत ज्यादा हाय होता है।

अपनी एनोमिनिटी को छुपाने के लिए और उनकी एक खास बात यह है कि वे हमेशा सर फेजर मैं घूमना ज्यादा पसंद करते हैं।

क्योंकि वहाँ पर लोग बहुत ज्यादा इजी होते हैं हैक करने के लिए परन्तु जो डाक फेब होता हैं उसकी सिक्योरिटी बिल्कुल जीरो होती है उसके अंदर आपको अपने सिक्योरिटी का खुद ही ध्यान रखना होता है।

ब्लैक हैट हैकर वहाँ पर भी आसानी से अटैक कर सकते है और यह हैकर के एक्सपीरियंस पर निर्भर करता है।

ग्रे हैट हैकर :

अगर हम ग्रेट हैट हैकर की बात करें तो ये व्हाइट हैट हैकर तथा ब्लैक हैट हैकर के बिल्कुल विपरीत होते हैं ‌ग्रे हैट हैकर्स उन हैकर्स की श्रेणी में आते हैं जिनका मोटो आपको किसी भी तरह का नुकसान पहुंचाना बिल्कुल भी नहीं होता लेकिन ये हैकर्स आपकी बिना इजाजत के आपके कंप्यूटर तथा अन्य डिवाइस को हैक कर लेते हैं।

इसीलिए इन्हें ग्रे हैट हैकर के नाम से जाना जाता है उदाहरण के लिए -कोई भी बिगनर हैकर जो हैकिंग दिखता है उस समय वह अन्य डिवाइस यूजर्स के डिवाइस को हैक करने की प्रैक्टिस करते हैं परंतु इनका इरादा आपको नुकसान पहुंचाना नहीं होता जैसे आपके दोस्त, फ्रेंड पड़ोसी, इत्यादि इनमें से कोई भी हो सकता है।

वेबसाइट हैकर किसे कहते हैं?

वेबसाइट हैकर वो हैकर्स होते हैं।

जो वेबसाइट को हैक कर उसका गलत फायदा उठाते हैं और गलत सूचना प्रदान कर लोगों से उनकी निजी जानकारी प्राप्त कर उसका मिस यूज करते हैं।

जैसे- ई-मेल, नेटवर्क हैकिंग पासवर्ड हैकिंग कंप्यूटर हैकिंग, सरकारी वेबसाइट इस तरह की वेबसाइट को एक वेबसाइट हैकरों द्वारा हैक किया जाता है उन्हें वेबसाइट Hacker कहते है |

ई-मेल हैकर्स-

जैसा कि हम जानते Hacker के तीन प्रकार होते हैं और वे अपनी तकनीकी द्वारा ई-मेल वेबसाइट को हैक कर उसका अलग-अलग तरह से इस्तेमाल करते हैं चाहे वह लीगल हो या फिर अनलीगल ।

ईमेल आईडी हैकर द्वारा हैक हुआ है या नहीं इसका भी आप पता लगा सकते हैं इसके लिए आपको गूगल की आवश्यकता होती है यह जानने के लिए नीचे दिए गए चरणों को फॉलो करो –

1. गूगल वेबसाइट पर जाकर have I been pwned टाइप करें।
2. आपको एक लिंक प्राप्त होता है have I been pwned उस पर क्लिक करें।
3. एक इंटरफेस खुलता है जिसमें आपको आपका ईमेल एड्रेस फील करना है जिसकी आपको हैक होने की आशंका है।
4. ईमेल एड्रेस भरते ही pwned पर क्लिक करें।
5. एक इंटरफेस लिखकर आता है गुड न्यूज नो पिऊंड फाउंड (मतलब आपका ईमेल अकाउंट हैक नहीं हुआ है ) ।

जीमेल अकाउंट हैक होने से बचाव के तरीके :

ईमेल अकाउंट को हैक होने से बचाने के लिए नीचे दिए गए चरणों को फॉलो करें-

  • सबसे पहले गूगल क्रोम ब्राउजर को ओपन करें।
  • तत्पश्चात सर्च बार में जाकर गूगल अकाउंट को सर्च करें।
  • आप देखते हैं एक इंटरफेस के द्वारा गूगल अकाउंट की वेबसाइट खुलती है जिस पर आपको क्लिक करना है।
  • उसके बाद ऊपर दिए हुए टैग में से सिक्योरिटी टैग को सेलेक्ट करें।
  • सिक्योरिटी टैग में टू स्टेप वेरीफिकेशन पर क्लिक करें तत्पश्चात स्क्रोल करके नीचे दिए गए गेट स्टार्टेड ऑप्शन पर क्लिक करें।
  • आप देखते हैं एक इंटरफेस खुलता है जिसमें आपको आपके जीमेल अकाउंट का पासवर्ड फिल करके नेक्स्ट पर क्लिक करें।
  • जिसके बाद दूसरा इंटरफेस खुलता है उसमें ट्राई नाउ पर क्लिक करें।
  • जिसके द्वारा आप को एक मैसेज भेजा जाता है उसमें आप Yes पर क्लिक करें जिसके द्वारा आप जीमेल अकाउंट में Login हो पाते हैं।
  • इस प्रकार से आपका टू स्टेप वेरीफिकेशन enable हो जाता है वहाँ पर आपको एक नंबर डालना होगा परंतु ज्यादातर नंबर ऑटोमेटिक होते हैं जिससे आपको सेव करना है और Next के लिए सेंड पर क्लिक करें।
  • उसके बाद आपको एक ओटीपी प्राप्त होता है जिससे आपको एंटर ओटीपी में भरना है उसके बाद आप टर्न ऑन पर क्लिक करें।
  • टर्न ऑन पर क्लिक करते ही आपका टू स्टेप वेरीफिकेशन कंप्लीट हो जाता है।
  • जिससे आप कभी भी जीमेल अकाउंट को किसी भी डिवाइस में लॉगिन करते हैं तो वहां पर आपके फोन पर टू स्टेप वेरीफिकेशन कोड प्राप्त होता है तथा जब तक आप जीमेल लॉगिन करने के लिए वहां पर यस ऑप्शन का चयन नहीं करते हैं तब तक जीमेल अकाउंट लॉगिन नहीं हो पाता है।

अगर आप इस सेटिंग को स्टेप बाय स्टेप फॉलो करते हैं तो आपका जीमेल अकाउंट कभी भी हैक नहीं हो सकता।

पासवर्ड तथा ईमेल हैकिंग के नुकसान :

1. पासवर्ड हैकिंग से ईमेल उपभोक्ता की सभी जानकारी का साझा होना।
2. पासवर्ड हैक पर आपकी निजी जानकारी और डेटा का गलत इस्तेमाल।
3. पासवर्ड हैक होने पर आपके इंस्टा, फेसबुक,गूगल तथा अन्य ऐप द्वारा किसी को भी मैसेज या गलत तरीके से टीज़ किया जा सकता है।
4. आपके ऊपर किसी भी तरह का कानूनी केस भी बन सकता है जिसके कारण आपको जुर्माना तथा जेल जाने की भरपाई करनी पड़ सकती है।

निष्कर्ष:

इस आर्टिकल के माध्यम से हमें यह सीखने को मिलता है कि हमें अपनी यूजर आईडी तथा पासवर्ड को किसी के साथ साझा नहीं करना चाहिए।

और समय-समय पर पासवर्ड तथा यूजर आईडी की जांच करें कि वह किसी हैकरों द्वारा हैक तो नहीं कर ली गई है।

इन्हे भी पढ़ें :

अंतिम शब्द:

आशा करता हूँ की हमारे द्वारा बताई गई Hacker की संपूर्ण जानकारी आपको सही लगी होगी।

यदि सही लगे तो अपने दोस्तों को शेयर जरूर करें।
धन्यवाद।

admin

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम शिव है Help Guide India ब्लॉग पर आपका स्वागत है यहाँ पर आपको Employee Help, Study, Internet, Technical, Computer नॉलेज से सम्बन्धित सभी जानकारी हिंदी भाषा मिलेंगी, Help Guide India वेबसाइट का एक ही मकसद है, आपकी मदत करने में आपकी मदत करता है इसलिए इस Hindi Blog से जुड़े रहने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल व फेसबुक को फॉलो करें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll to top
error: Content is protected !!