रिंग टोपोलॉजी क्या है, लाभ – हानि और विशेषता

रिंग टोपोलॉजी

पिछले पेज में मैंने आपको स्टार टोपोलॉजी के बारे में बताया था। आशा करती हूँ कि आपको पसंद आया होगा। अब मैं इस पेज में रिंग टोपोलॉजी जोकि टोपोलॉजी का ही एक भाग है उसके बारे में बताने जा रही हूँ।

आप इसको जरूर पूरा पढ़ें।

रिंग टोपोलॉजी :

रिंग टोपोलॉजी नेटवर्क में कंप्यूटर सर्कुलर फैशन से जुड़ा हुआ होता है और डेटा एक दिशा में ट्रैवल करता है। एक रिंग नेटवर्क में, कम्युनिकेशन के लिए प्रत्येक डिवाइस से कनेक्टेड वास्तव में दो कंप्यूटर नजदीक होते हैं।

प्रत्येक कंप्यूटर सीधे दूसरे कंप्यूटर से कनेक्ट होता है, जो नेटवर्क के माध्यम से सिंग्नलो के लिए एक मार्ग बनाता है। इस प्रकार का नेटवर्क स्थापित करना और प्रबंधित करना आसान है।

सभी संदेश एक ही दिशा में एक रिंग के माध्यम से ट्रैवल करते हैं। किसी भी केबल या डिवाइस के फेल होने पर कनेक्शन टूट जाता है और पूरे कम्युनिकेशन नेटवर्क को खराब कर देता है।

रिंग टोपोलॉजी की विशेषता :

  • बड़ी संख्या में नोड्स के साथ रिंग टोपोलॉजी के लिए अनेक रिपीटर्स का उपयोग किया जाता है, क्योंकि यदि कोई व्यक्ति रिंग टोपोलॉजी में 100 नोड्स के साथ अंतिम नोड मैं कुछ डेटा भेजना चाहता है तो डेटा को 100 वा नोड तक पहुंचने के लिए 99 नोड्स से गुजरना होगा। इसलिए डाटा हानि को रोकने के लिए रिपीटर्स का उपयोग नेटवर्क में किया जाता है।
  • ट्रांसमिशन यूनिडायरेक्शनल है, लेकिन प्रत्येक नेटवर्क नोड के बीच 2 कनेक्शन होने से इसे बायडारेक्शनल बनाया जा सकता है इसे डुअल रिंग टोपोलॉजी कहते हैं।
  • डुअल रिंग टोपोलॉजी में 2 रिंग नेटवर्क बनते हैं, और उनमें डेटा प्रवाह विपरीत दिशा में होता है। इसके अलावा यदि एक रिंग विफल हो जाती है तो दूसरी रिंग नेटवर्क को बनाए रखने के लिए बैकअप के रूप कार्य कर सकती है।
  • डेटा को सिक्वेनि्सयल तरीके से स्थानांतरित किया जाता है जो बिट बाय होता है। डेटा प्रेषित करने पर डेसि्टनेशन नोड तक नेटवर्क के प्रत्येक नोट से गुजरना होता है।

रिंग टोपोलॉजी के लाभ :

  • बहुत सारे नेटवर्क ऐसे होते है जो टोकन तक पहुँचने का अवसर प्रसारित करते है।
  • यह नेटवर्क के ज्यादा लोड होने पर पर अच्छा काम करता है।
  • आपस में कंप्यूटर के बीच कनेक्टिंग करने के लिए केंद्रीय नोड की जरुरत नहीं होती है।
  • पॉइंट टू पॉइंट लाइन के कारण डिवाइस के दोनों और एक डिवाइस के साथ कानि्फगरेशन (प्रत्येक डिवाइस अपने निकटतम पड़ोसी से जुड़ा हुआ है), डिवाइस को जोड़ने या हटाने के बाद से स्थापित करना और पुनः संचार करना काफी आसान है, केवल दो कनेक्शनों को स्थानांतरित करने की आवश्यकता है ।
  • पॉइंट टू पॉइंट कानि्फगरेशन त्रुटियों को पहचानना अलग करना आसान बनाता है ।

Ring Topology के हानि :

  • एक खराब कंप्यूटर पूरे नेटवर्क के लिए समस्या पैदा कर सकता है। इसे दोहरी अंगूठी या ब्रेक को बंद करने वाले स्विच का उपयोग करके हल किया जा सकता है ।
  • जब हम नेटवर्क को एक स्थान से दूसरे स्थान बदलते है या जोड़ते है तो नेटवर्क को नुकसान पहुँचा सकते है।
  • बैंडविडथ डिवाइस के बीच सभी लिंक पर साझा किया जाता है ।
  • समस्या निवारण करना मुश्किल है।

इन्हे भी पढ़ें :

अंतिम शब्द :

आशा करती हूँ की आपको रिंग टोपोलॉजी की जानकारी सही लगी होगी।

यदि सही लगे तो दोस्तों को भेजें।

कोई प्रश्न है तो हमें कमेंट करें

2 thoughts on “रिंग टोपोलॉजी क्या है, लाभ – हानि और विशेषता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top
error: Content is protected !!