RTGS

RTGS क्या है? RTGS कैसे करें, Full Form व समस्त जानकारी

प्रिय रीडर आईए एक और इंटरनेट बैंकिंग RTGS से संबंधित कुछ जानकारी प्राप्त करते हैं।

और RTGS के उन सभी विषयों पर नज़र डालते है क्योंकि इंटरनेट बैंकिंग एक महत्वपूर्ण हिस्सा होता हैं। किसी उपभोक्ता के लिए इसलिए में आज RTGS से आपको परिचित कराउंगा।

क्योंकि यह भी एक इंटरनेट बैंकिंग सुविधा जिसके बारे में आपको पता होना चाहिए यदि आप इसके उपभोक्ता है तो।

RTGS की फुल फॉर्म क्या है ?

Real time Gross settlement – RTGS की फुल फॉर्म है।

RTGS क्या है?

इस सुविधा में मनी ट्रांसफर करने में किसी भी प्रकार का समय नहीं लगता RTGS ट्रांजैक्शन किसी भी समय सीमा की प्रतीक्षा नहीं करता RTGS प्रक्रिया में एक बैंक द्वारा दूसरे बैंक में राशि ट्रांसफर करने में 1 सेकंड का समय लगता है।

यह सुविधा अन्य इंटरनेट नेट बैंकिंग की सुविधा से बहुत ही ज्यादा फास्ट होती है अन्य इंटरनेट ट्रांजैक्शन की तुलना में यह कम से कम समय निर्धारण करता है RTGS की सभी प्रक्रिया आरबीआई यानी रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के माध्यम से नियंत्रित की जाती हैं। जिसे RTGS कहते है।

RTGS में फंड ट्रांसफर की सीमा क्या होती है ?

आर.टी.जी.यस में फंड ट्रांसफर की अधिकतम सीमा निम्न बैंक के द्वारा तय की जाती है परंतु RBI ने RTGS में ज्यादा फंड ट्रांसफर करने में किसी भी तरह की सीमाएं नहीं लगाई परंतु निम्न दर से फंड ट्रांसफर करने पर बैंक फंड के अनुसार टैक्स वसूल किया जाता है।

RTGS में ट्रांजैक्शन करने पर लगने वाला चार्ज :

आर.टी.जी.यस की ऑनलाइन ट्रांजैक्शन सुविधा का इस्तेमाल करते वक्त ₹200000 का ट्रांजैक्शन करने के उपरांत आपको ₹25 प्लस टैक्स का भुगतान करना पड़ता है यदि इससे ज्यादा ट्रांजैक्शन यानी कि ₹500000 का करते हैं उस दौरान आपको ₹50 के साथ-साथ टैक्स का भुगतान करना पड़ता है
इस पैराग्राफ में बताए गए सभी चार्ज बैंक द्वारा निर्धारित किए गए हैं।

RTGS का उपयोग में आवश्यक दस्तावेज:

1. लाभार्थी कि फोन नंबर की जानकारी।
2. IFSC Code
3. लाभार्थी ग्राहक का नाम।
4. लाभार्थी का अकाउंट नंबर।
5. जाने वाली राशि का निश्चित होना।

RTGS में ऑनलाइन ट्रांजेक्शन कैसे करें?

  • सर्वप्रथम आप अपनी इंटरनेट नेट बैंकिंग सुविधा संचालित करें इस कार्य के लिए आप अपने बैंक से संपर्क करें।
  • उसके पश्चात आप अपनी आईडी और पासवर्ड का इस्तेमाल कर बैंक की पोर्टल को लॉगिन करें। तत्पश्चात आप बेनिफिशियरी ऑप्शन का चयन करें।
  • वहाँ पर उपस्थित सभी ऑनलाइन ट्रांजैक्शन में से RTGS ट्रांजैक्शन का इस्तेमाल करें।
  • उपभोक्ता को अकाउंट से जोड़ने के लिए नीचे दी गई उपभोक्ता की कुछ जानकारी को ध्यानपूर्वक भरे जैसे- नाम, अकाउंट नंबर,IFSC code, और पता जैसी महत्वपूर्ण जानकारी।
  • तथा टर्म्स और कंडीशन को ध्यान पूर्वक पढ़कर आगे बढ़े।
  • बाद में आपको आपके फोन पर सिक्योरिटी पासवर्ड प्राप्त होता है जिसका इस्तेमाल आपको आपके लाभार्थी को जोड़ने के लिए इस्तेमाल करें।
  • लाभार्थी को 30 मिनट के अंदर एक्टिवेट किया जाता है और उस उपरांत आप उन्हें फंड ट्रांसफर कर सकते हैं।
  • आर.टी.जी.यस माध्यम से फंड ट्रांसफर करने के लिए उसमें दिए गए पेमेंट ट्रांसफर टैब में इंटरनेट बैंक ट्रांसफर का चयन करें।

RTGS में आप किस प्रकार के भुगतान कर सकते हैं?

  1. आप इसका इस्तेमाल नगर भुगतान के लिए कर सकते हैं।
  2. यह भुगतान के साथ-साथ ब्याज के भुगतान में भी इस्तेमाल किया जाता है।
  3. यह व्यापार के क्षेत्र में भुगतान के लिए भी इस्तेमाल किया जाता है।
  4. इसका इस्तेमाल टैक्स भरने में भी किया जाता है।

यह क्रेडिट कार्ड जैसे आदि के ट्रांजैक्शन में भी सहायक होता है।

इन्हे भी पढ़ें :

अंतिम शब्द :

आशा करता हूँ की मेरे द्वारा उपलब्ध कराई गई संपूर्ण जानकारी में से यह भी जानकारी आपको पसंद आई होगी।

आज किस प्रकार कार्य करती है आप इससे भली-भांति परिचित हो चुके हैं।

यदि इस पेज से सम्बन्धित कोई प्रश्न है तो हमें कमेंट करें।

admin

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम शिव है Help Guide India ब्लॉग पर आपका स्वागत है यहाँ पर आपको Employee Help, Study, Internet, Technical, Computer नॉलेज से सम्बन्धित सभी जानकारी हिंदी भाषा मिलेंगी, Help Guide India वेबसाइट का एक ही मकसद है, आपकी मदत करने में आपकी मदत करता है इसलिए इस Hindi Blog से जुड़े रहने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल व फेसबुक को फॉलो करें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll to top
error: Content is protected !!