Fitter

Fitter ( फिटर ) किसे कहते है ? शिक्षा, सैलरी, कार्य व् फिटर की फुल फॉर्म

चलिए एक और व्यवसाय से परिचित होते हैं जिसका परिचय Fitter शब्द से होता है।

आज हम फिटर व्यवसाय के बारे मे जानेंगे। इसके साथ-साथ हम इस बात का भी अध्ययन करेंगे की आप किस प्रकार फिटर व्यवसाय से अपना कमाने का जरिया बना सकते हैं।

इसके अलावा मैं आपको यह बताने का भी प्रयास करूंगा की आप किस प्रकार एक कुशल फिटर बनकर नौकरी के कई अवसर प्राप्त करने में सफल हो सकते हैं।

वह अफसर आपको किन- किन क्षेत्रों में प्राप्त होने की अधिक संभावना होती है ऐसे बहुत से बिंदुओं पर हम इस कंटेंट में विस्तार से चर्चा करेंगे तथा आपकी उन सभी समस्याओं को हल करने का प्रयास करेंगे जो कि फिटर व्यवसाय से संबंधित होंगी।

फिटर की फुल फॉर्म:

फिटर की फुल फॉर्म कुल 6 शब्दों में ज्ञात होती है चलिए उन 6 शब्दों को जानते हैं Fitness Intelligent Talented Target Efficient Regularity यह वह 6 शब्द हैं जो फिटर को फुल फॉर्म प्रदान करते हैं।

Fitter क्या होता है?

वह अनुभवी व्यक्ति जो अलग-अलग पुर्जा का उपयोग कर इस्तेमाल होने वाली किसी भी प्रकार की मशीन का निर्माण कर सकें।

तथा वह मशीन उपभोक्ता को किसी भी प्रकार की मदद तथा उपयोग करने में लाभ दे सके ऐसे अनुभवी तथा ज्ञानी व्यक्ति को हम फिटर के नाम से परिचित कराते हैं।

इस व्यवसाय में केवल फिटर व्यक्ति अपनी तकनीकी का उपयोग करता है बल्कि उपयोगी मशीन का निर्माण करने के लिए वह कम से कम 25% हिस्सा फिटिंग में उपयोग होने वाली मशीनों का भी योगदान रहता है।

जिसके माध्यम से वह अपना 75% हिस्सा देकर एक नई मशीनरी का निर्माण करता है ये वे ज्ञानी व्यक्ति है जिनकी सोच का कोई अंत नहीं होता ऐसे अनुभवी व्यक्ति किसी भी मशीनरी जैसी तकनीकी का निर्माण करने में सफल रहते हैं जिन्हें हम फिटर से संबोधित करते हैं।

फिटर का महत्व ?

जैसा कि हम जानते हैं यह युग तकनीकी मशीनों का उपयोग करने वाला अधिक है जिसके दौरान इस्तेमाल होने वाली मशीनों में निरंतर कमियाँ होती है उस दौरान मशीनों को बेहतर तथा कार्यरत बनाने के लिए फिटर की एक महत्वपूर्ण भूमिका रहती है।

यदि हम सरल भाषा में समझने का प्रयत्न करें तो मशीनों में आई हुई तकनीकी खराबी फिटर व्यवसाय के माध्यम से ठीक होने की अधिक संभावना होती है।

जिसके लिए मल्टीनेशनल जैसी कंपनियों में फिटर व्यक्तियों की आवश्यकता होती है, वह व्यक्ति उस वक्त अपनी तकनीकी का उपयोग कर कंपनियों में होने वाली हानियों को रोकने में सफल रहते हैं यही वजह रही है की फिटर व्यक्तियों को अधिक महत्व दिया जाता है।

फिटर के कार्य क्या होते है ?

चलिए अब हम जानते हैं फिटर के उन कार्यों के बारे में जिनका ज्ञान आपको होना जरूरी है।

  • मशीन के पुर्जों का निर्माण करना।
  • मशीन में होने वाली तकनीकी खराबी को ठीक करना।
  • ख़राब पाइप लाइन को सही करना।
  • लीकेज पाइप लाइन की मरमत करना।
  • वेल्डिंग।
  • रिवेटिंग।
  • ग्राइंडिंग।
  • मेजरिंग।
  • शीट मेटल वर्किंग।
  • मार्किंग।

इस प्रकार के सभी कार्य फिटर के माध्यम से होते हैं यह व्यवसाय बहुउद्देशीय व्यवसाय होता है।

फिटर के प्रकार:

यदि हम फिटर के सभी प्रकारों के बारे में जाने तो वह 7 भागों में बाटे हैं जिनके प्रकार मैंने नीचे चरणों में व्यक्त करने का प्रयास किया है-

  • इंजन फिटर जोकि पेट्रोल या फिर डीजल किसी भी इंजन का हो सकता है।
  • ऑटो फिटर।
  • विद्युत क्षेत्र में होने वाली समस्याओं को सुलझाने के लिए अनुभवी फिटर।
  • रेलवे फिगर।
  • टरबाइन फिटर आदि प्रकार फिटर व्यवसाय में शामिल है।

फिटर बनने में योग्यता :

मेरा ऐसा मानना है की यदि आप कम से कम आठवीं कक्षा के विद्यार्थी भी रहे हो तब भी आप एक कुशल तथा बेहतर फिटर बनने योग्य व्यक्ति हैं। इसके उपरांत आप भारत के किसी भी राज्य से मान्यता प्राप्त बोर्ड से 12 कक्षा उत्तीर्ण होना आवश्यक है क्योंकि वह कक्षा आपकी समझने और करने की क्षमता को प्रदर्शित करती हैं।

इसके साथ-साथ यदि आप दो से तीन साल के इस व्यवसाय में अनुभवी व्यक्ति हैं तो आपके पास एक बेहतर और बढ़िया फिटर होने की योग्यता होती है।

फिटर के लिए शिक्षा:

यदि आप Fitter व्यवसाय में अपना आगे का भविष्य बनाने में रुचि रखते हैं तो आपको इसकी शिक्षा का ज्ञान होना आवश्यक है।

शिक्षा के दौरान बताइ जाने वाली तकनीक के बारे में पता होना महत्व होता है जिनके जरिए आप एक Fitter व्यवसाय मे आगे का भविष्य तय कर सकते है।

Fitter व्यवसाय की सबसे उच्च शिक्षा आईटीआई होती है जिसे पूरे भारत में आईटीआई नेटवर्क से प्रचलित किया गया है एवं आईटीआई शिक्षा 2 वर्ष की होती है तथा फिटर आईटीआई आप 12वीं कक्षा के बाद या फिर दसवीं के उपरांत कर सकते हैं।

फिटर की सैलरी:

चलिए अब हम फिटर व्यवसाय में फिटर की सैलरी की बात करते हैं यदि आपने आईटीआई से फिटर कोर्स करने के बाद प्राइवेट नौकरी किया है तो आपको कम से कम अनुभव के आधार पर 11000 से 12000 रुपए प्रतिमाह उपलब्ध किया जा सकता है इसके साथ-साथ यदि आप अनुभवी और कार्य के पद पर आगे बढ़ते हैं तो आपकी सैलरी ज्यादा से ज्यादा 30000 से ₹40000 तक हो सकती है।

इन्हे भी पढ़ें :

अंतिम शब्द:

आशा करता हूँ की फिटर कंटेंट आपको आपके फिटर व्यवसाय को आगे ले जाने में व् फिटर व्यवसाय के जरिए आपके रोजगार को बढ़ाने में मदत करेगा।

यदि आपको हमारे दी हुई जानकारी सही लगे तो अपने दोस्तों में शेयर जरूर करें।

हमारे साथ जुड़ने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

admin

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम शिव है Help Guide India ब्लॉग पर आपका स्वागत है यहाँ पर आपको Employee Help, Study, Internet, Technical, Computer नॉलेज से सम्बन्धित सभी जानकारी हिंदी भाषा मिलेंगी, Help Guide India वेबसाइट का एक ही मकसद है, आपकी मदत करने में आपकी मदत करता है इसलिए इस Hindi Blog से जुड़े रहने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल व फेसबुक को फॉलो करें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll to top
error: Content is protected !!