कम्प्यूटर

कम्प्यूटर क्या है, कंप्यूटर के प्रकार एवं उपयोग व् अविष्कारक

जैसा कि हम सब जानते हैं कि कम्प्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक संयंत्र है।

जिस का अविष्कार सबसे पहले चार्ल्स बैबेज ने वर्ष 1822 किया था जो कि वह अंग्रेजी बहुश्रुत गणितज्ञ तथा यांत्रिक इंजीनियर थे तथा इन्हें कंप्यूटर का पिता भी कहा जाता है।

हालांकि कई वैज्ञानिकों ने समय-समय पर कंप्यूटर से संबंधित अन्य जानकारी जुटाई‌ और कंप्यूटर की नींव को मजबूत किया हम यह भी कह सकते हैं कि कंप्यूटर को बनाने में कई वैज्ञानिकों ने अपना-अपना योगदान दिया पर चार्ल्स बैबेज का नाम सर्वप्रथम पर ही रखा जाता है।

क्योंकि चार्ल्स बैबेज कंप्यूटर प्रोग्राम की आधार के उद्भव के लिए जाने जाते हैं इसलिए हम उन्हें याद करते हैं।

कम्प्यूटर की फुल फॉर्म क्या है ?

Computer की फुल फॉर्म है –

  • C – Commonly
  • O- Operated
  • M- Machine
  • P- Particularly
  • U-Used in
  • T-Technical 
  • E- Educational
  • R- Research

कंप्यूटर को हिंदी में क्या कहते है ?

कम्प्यूटर को हिंदी में संगणक कहते है।

कंप्यूटर के कितने भाग होते है ?

कंप्यूटर के दो भाग होते है Input और Output, इन दोनों में कौन – कौन से भाग होते है वह हम नीचे बता रहे है।

इनपुट डिवाइस :

इनपुट डिवाइस वह डिवाइस है जो हमारे दिए गये आदेश को CPU तक पहुँचता है जैसे –

  • Keyboard
  • Mouse
  • Scanner
  • Bar Code Reader

आउटपुट डिवाइस :

इनपुट द्वारा दिए गए कमांड को रिजल्ट के रूप मिलना आउटपुट डिवाइस कहते है जैसे –

  • मॉनिटर
  • प्रिंटर
  • प्रोजेक्टर
  • स्पीकर

कम्प्यूटर के प्रकार एवं उपयोग 

कंप्यूटर का उपयोग आज की और आने वाली पीढ़ी के लिए अधिक लाभदायक साबित हुआ है और आप आगे देखेंगे कि कंप्यूटर कई प्रकार हैं जो की विभिन्न कार्यों के काम को पूर्ण करने के लिए उपयोग में लाया जाता है जिसकी जानकारी आपको नीचे दी गई है।

कंप्यूटर का उपयोग क्यों किया जाता है :

जैसा कि आप जानते हैं आज की पीढ़ी के पास किसी भी काम को पूरा करने के लिए सीमित समय होता है कंप्यूटर का उपयोग कम समय में ज्यादा से ज्यादा काम करने के लिए किया जाता है।

दैनिक जीवन में कंप्यूटर का उपयोग :

कंप्यूटर को हम विभिन्न प्रकार से उपयोग करते हैं जैसे बैंक के कार्य हेतु, व्यापार, शिक्षा, खेल, विज्ञान इंजीनियर, संचार इन सब में कंप्यूटर अपनी एक अहम भूमिका है।

कंप्यूटर के प्रकार :

  • सुपर कंप्यूटर
  • मेनफ्रेम कंप्यूटर
  • वर्क स्टेशन कंप्यूटर
  • पर्सनल कंप्यूटर
  • स्मार्टफोन और टेबलेट

कंप्यूटर का उपयोग :

सुपर कंप्यूटर :

सुपर कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक संयंत्र है जो (महासंगण) के नाम से भी जाना जाता है सुपर कंप्यूटर में सबसे पहले इल्लीआक 4 है जिसका उपयोग 1975 से हुआ इसका निर्माण डेनियल सल्लोटनिक ने किया जो कि एक वैज्ञानिक थे।

इस कंप्यूटर की यह खासियत है कि यह 64 कंप्यूटर के बराबर काम कर सकता है तथा यह 8000000 शब्द तक भंडारण कर सकता है और यह कई ज्यादा लाइट्स के तरीकों से अंकगणित प्रक्रिया पूर्ण करता है।

ज्यादातर सुपर फास्ट कंप्यूटर का उपयोग वैज्ञानिक करते हैं क्योंकि विज्ञान में विभिन्न प्रकार की भाषा का उपयोग किया जाता है जो कि इस में उपस्थित होती हैं यह बहुत ही महंगा और बड़ा होता है।

यह उसके काम करने की रफ्तार पर होता है इसके रखर-खाव के लिए काफी जगह की आवश्यकता होती है।

मेनफ्रेम कंप्यूटर :

मेनफ्रेम कंप्यूटर बहुत विशालकाय होते हैं तथा शक्तिशाली और गणित के मामले में बहुत उपयोगी माने जाते हैं मेनफ्रेम कंप्यूटर मैं स्टोरेज क्षमता अधिक होती है। इनका उपयोग ज्यादातर बैंक जैसे कार्ड और मनी ट्रांसफर में किया जाता है।

और एयरलाइन जैसे बड़े और सुरक्षित कार्यों मैं भी उपयोग किया जाता है तथा इसको 1951 में J. Presper Eckert और John Mauchly द्वारा विकसित किया था और इसे बि आई एम संगठन द्वारा डिजाइन किया गया है।

वर्क स्टेशन कंप्यूटर :

वर्क स्टेशन कंप्यूटर विशेष प्रकार के प्रोसेस से बनाए जाते हैं वर्कस्टेशन कंप्यूटर दिखने में माइक्रो कंप्यूटर की तरह होते हैं तथा अधिक शक्तिशाली भी होते हैं यह ज्यादातर इंजीनियरिंग के क्षेत्र में प्रयोग किए जाते हैं वर्ग स्टेशन कंप्यूटर में माइक्रो कंप्यूटर के हर लक्षण मौजूद होते हैं।

जिस प्रकार माइक्रो कंप्यूटर को एक समय मैं एक व्यक्ति उपयोग कर सकता है उसी प्रकार वर्कस्टेशन कंप्यूटर एक ही व्यक्ति इस्तेमाल कर पाता है यह कंप्यूटर माइक्रो कंप्यूटर की तुलना में अधिक महंगे होते हैं।

पर्सनल (निजी) कंप्यूटर :

पर्सनल कंप्यूटर में कंप्यूटर होते हैं जिन्हें व्यक्ति के उपयोग के लिए डिजाइन किया गया था।

स्मार्टफोन और टेबलेट यह भी एक प्रकार के कंप्यूटर होते हैं जो हमारी रोजमर्रा की जिंदगी में अधिक उपयोगी होते हैं।

जैसे- दूर भाषा, डाटा स्टोर, किसी पर नजर रखना आदि और आम आदमी की जिंदगी में यह एक अहम भूमिका निभाते हैं इनको हम कहीं भी आसानी से ले जा और ला सकते हैं।

बिना किसी परेशानी के तथा इसके रखरखाव के लिए अन्य कंप्यूटरों के मुताबिक अधिक जगह की आवश्यकता नहीं होती है।

यह कंप्यूटर माइक्रोप्रोसेसर द्वारा कार्य करता है इसका उपयोग व्यापार, शब्द संसाधन, डेटा प्रबंधन, और प्रस्तुति के लिए किया जाता हैं इसे घर में मनोरंजन के रूप में भी उपयोग कर सकते हैं।

कंप्यूटर के फायदें :

देखा जायें तो कंप्यूटर से होने वाले फायदें बहुत सारे है जैसे –

  1. कंप्यूटर से हम कम समय में ज्यादा काम कर सकते है।
  2. कम्प्यूटर से हम मैन्युअल की अपेक्षा ज्यादा समय को बचा सकते है।
  3. कंप्यूटर से तेजी से गणना कर सकता है।
  4. कम्प्यूटर बिना थके कही घंटो काम कर सकता है।
  5. Computer द्वारा डॉक्यूमेंट्स को एक – दूसरे जगह भेज सकते है।

इन्हे भी पढ़ें :

अंतिम शब्द :

आशा करता हूँ की आपको कंप्यूटर क्या है एवं कंप्यूटर समस्त जानकारी सही लगी होगी।

सही लगे तो दोस्तों को भेजें।

कोई प्रश्न है तो हमें कमेंट करें।

admin

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम शिव है Help Guide India ब्लॉग पर आपका स्वागत है यहाँ पर आपको Employee Help, Study, Internet, Technical, Computer नॉलेज से सम्बन्धित सभी जानकारी हिंदी भाषा मिलेंगी, Help Guide India वेबसाइट का एक ही मकसद है, आपकी मदत करने में आपकी मदत करता है इसलिए इस Hindi Blog से जुड़े रहने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल व फेसबुक को फॉलो करें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll to top
error: Content is protected !!