Keyboard क्या है, फूल फॉर्म, निर्मित, कार्य, की-बोर्ड के प्रकार एवं समस्त जानकारी

Keyboard

प्रिय मित्रों में आपका दोस्त आपके लिए कंप्यूटर से सम्बन्धित जानकारी लाया हूँ। जो कंप्यूटर मे इन पुट डिवाइस का कार्य करता है जिसे Keyboard के नाम से जाना जाता हैं।

मै इसके बारे में आपको विस्तार से बताउंगा और उससे जुड़ी जानकारी का वर्णन करुंगा जिसके बारे में आपको ज्ञान होना चाहिए।

कीबोर्ड की फुल फॉर्म क्या है ?

Keyboard की फुल फॉर्म है – Keys Electronic yet Board Operating  A to Z Response Directly.

कीबोर्ड को किसने निर्मित किया था ?

1868 मे क्रिस्टोफर शॉल्स द्वारा शब्द टाइप राइटर का निर्माण और पेटेंट किया गया था यह दुनिया का सबसे पहला कीबोर्ड है।

कंप्यूटर में Keyboard क्या है ?

कीबोर्ड कंप्यूटर में एक इन पुट डिवाइस है।

जिसमे उंगली के आकार की keys बनी होती है। इसमें दो प्रकार की Keys होती है एक तरफ अल्फाबेट्स और दूसरी तरफ नंबर Keays होती है। इनके अलावा और भी कई Keays होती है वह आपको नीचे विस्तार में बताया गया है।

की- बोर्ड के प्रकार :

हमने नीचे कुछ कीबोर्ड के बारें में विस्तार से बताया है जिनके बारें में आपको जानना जरुरी है।

मैकेनिकल कीबोर्ड :

मैकेनिकल कीबोर्ड, यह कीबोर्ड आपके लिए यूज करना काफी आराम दायक होता है।

क्योंकि इसमें बटन में लगी स्प्रिंगआपकी उंगली को पीछे की तरफ पुश करती है जिससे आपको टाइपिंग करते समय आराम मिलता है। जिससे आप जल्दी टाइपिंग कर सकते है और यह महंगे दामों में आते हैं।

गेमिंग कीबोर्ड :

यह कीबोर्ड बच्चों के लिए डिज़ाइन किए गए होते हैं जिनके बटन के नीचे स्प्रिंग लगी होती है जिससे आपको गेम खेलने में आसानी होती है और यह महंगे होते हैं।

आर्गोनॉमिकल कीबोर्ड :

यह कीबोर्ड आपकी टाइपिंग स्पीड को बढ़ाती हैं इसका आकार वि शेप में होता है इसका यह कारण है की आपको टाइपिंग करते समय आराम मिल सकें।

वायरलेस कीबोर्ड  :

ये कीबोर्ड उनके लिए अच्छे हैं जो वायरलेस Keyboard से काम करने में रूची रखते हैं और यह कंप्यूटर से Wifi या ब्ल्यूतूथ से कनेक्ट होते हैं।

मल्टीमिडिया कीबोर्ड :

इसमें अन्य कीबोर्ड की तुलना मे ज्यादा बटन होती है जैसे वेलुम कन्ट्रोल, Play Pause जेसी बटन होती है।

कीबोर्ड का निम्न कार्य क्या है ?

आईए अब आपको Keyboard के कार्य के बारे में बताते हैं।

कीबोर्ड का प्रयोग कंप्यूटर में किसी भी तरह के डाटा को संग्रहित करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

चाहें वह डाटा नंबरिग में हो या वर्ड्स में हो।

कीबोर्ड में  Key (बटन) की संख्या :

अगर आपको पता होगा तो पहले के कीबोर्ड मे 84 की संख्या होती थी पर अब इनकी संख्या बढ़ कर 104 हो गई है। तथा लैपटॉप के कीबोर्ड मे इसकी संख्या 102 होती है।

कीबोर्ड में की के प्रकार:

फंगशन Keys :

ये F2 से F12 तक होती है यह कीबोर्ड मे सबसे उपर होती हैं। इनका प्रयोग फंगशन के अनुसार होता है।

 कन्ट्रोल Keys  :

जैसे :- Alt, window, shift आदि ऐसी और भी कई keys होती है जिनके द्वारा कंप्यूटर को कंट्रोल किया जाता हैं।

अल्फाबेट्स Keys :

यह A To Z तक होती है और इनको बड़े तथा छोटे अक्षर दोनों मे कर सकते है इनका उपयोग शब्द को लिखने के लिए किया जाता है।

 नम्बर Keys :

यह 0 से 9 तक होती है इनको नंबर लिखने में उपयोग किया जाता है जैसे अकाउंट नंबर, Number लिखना आदि में इस्तेमाल होता है।

नेवीगेशन Keys  :

नेवीगेशन Key को तीन भागो में बाटा गया है पहला ऐरो keys जो दांए, बाएं, अप और डाउन एरो, दूसरा होम Key होती है जो स्टार्टिंग में जाने के लिए उपयोग कि जाती हैं। तिसरी एंड होती है जिसे हम सबसे लास्ट में जाने के लिए प्रयोग करते हैं।

पंचुएशन Keys :

जिसमे डॉट, इनवर्टेड कोमा, कोमा क्वेशन मार्क आदि यह Shift Key के साथ काम करती है।

इनके अलावा और भी ज़रूरी Key है जैसे -टैब, शिफ्ट, स्पेस, एंटर, बैक्सपेस आदि यह भी कंप्यूटर में काम करते समय बहुत लाभदायक होती है।

इन्हे भी पढ़ें :

अन्तिम शब्द :

यह था आपके द्वारा यूज की जाने वाले Keyboard की पूरी जानकारी आशा करते हैं कि यह जानकारी आपको इनपुट डिवाइस कीबोर्ड को जानने में मदद करेगी।

हमसे जुड़ें रहने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

धन्यवाद।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top