प्रिंटर क्या है, प्रिंटर के प्रकार एवं विशेषता

प्रिंटर

हम कंप्यूटर में सभी डिवाइस के बारे में तो जानते हैं परन्तु क्या आप यह जानते हैं कि हमारे पास प्रिंटिंग किए हुए दस्तावेज़ या फाइल कहाँ से आते हैं। अगर नहीं तो आज हम आपको प्रिंटर के बारे में बताएंगे जिसके कारण आपको Printer दस्तावेज़ जैसी सुविधाएं उपलब्ध होती है।

प्रिंटर क्या है?

Printer बिजली से चलने वाला एक उपकरण है।

जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर में उपस्थित डाटा जो कि सॉफ्ट कॉपी में होता है। उस डाटा को प्रिन्ट करके प्रिंटर द्वारा हार्ड कॉपी में बदल दिया जाता हैं। प्रिंटर एक महत्वपूर्ण उपकरण है। जिसके कारण हम लिखित में दस्तावेज़ प्राप्त कर सकते है। जिसे हम प्रिंटर कहते है।

प्रिंटर का अविष्कार किसने किया था?

1938 में चेस्टर कार्लसन द्वारा पहले प्रिंटर का अविष्कार किया गया था 1938 में चेस्टर कार्लसन किए गए प्रिंटर को इलेक्ट्रोनोंग्राफी के नाम से जाना जाता हैं इसके बाद 1979 में लेज़र Printer का अविष्कार हुआ जो गैरी स्तर्कवेदर के द्वारा हुआ था।

प्रिंटर के कितने प्रकार होते है?

Printer के कुल दो प्रकार होते है-

इंपैक्ट Printer –

इंपैक्ट प्रिंटर के प्रकार:

  1. डेज़ी वील Printer
  2. डॉट मैट्रिक्स Printer
  3. लाइन Printer
  4. ड्रम प्रिंटर आदि।
  5. इंपैक्ट प्रिंटर क्या है?

इंपैक्ट Printer वह टाइप राइटर है जिसका इस्तेमाल पहले कुछ भी Printer करने के लिए किया जाता था अब इसका इस्तेमाल धीरे-धीरे कम होता जा रहा है क्योंकि अब ज़्यादा लेज़र Printer का उपयोग किया जाता है।

आप देखेंगे कि टाइप राइटर में छोटे- छोटे पिन लगे होते हैं जिनमें अक्षर लिखें होते हैं आपने देखा होगा टाइप राइटर में रिबन होता है जिसमे लिखने के लिए इंक उपस्थित होती है टाइप राइटर पर काम करते समय हेमर रिबन द्वारा कागज़ पर कुछ भी प्रिन्ट कर सकता है।

  1. नॉन इंपैक्ट प्रिंटर :

नॉन इंपैक्ट Printer के प्रकार:

लेज़र प्रिंटर क्या है ?

यह वह Printer है जो जिसका इस्तेमाल 1970 से कंप्यूटर में किया जाता हैं।

यह मेनिफ्रेम नामक कंप्यूटर में किया जाता हैं, 1980 मे इसकी कीमत लगभग 3000 dollar थी और इन्हें ज़्यादा पसंद किया जाता हैं क्योंकि टेक्स्ट और ग्राफिक छपाई में अच्छे होते है इसमें माइक्रो प्रोसेसर रेम और रोम का उपयोग किया जाता हैं। इससे प्रिन्ट होने वाले डॉट छोटे होते है इसमें काटेराइज का इस्तेमाल किया जाता हैं जिसमे सूखी इंक भर दिया जाता हैं।

लेज़र Printer की विशेषताएं-

  • उच्च रोजोल्यूशन।
  • उच्च प्रिटिंग।
  • बड़ी मात्रा में उपयुक्त।
  • कम कीमत में छपाई।

लेज़र Printer की कमियाँ –

  1. टोलर और ड्रम का बदलाव।
  2. अधिक महँगे।
  3. भारी और बड़े होते है।
  4. फ़ोटो Printer ।

फ़ोटो प्रिंटर वे Printer हे जो है जो रंग बिरंगी फोटो और अन्य रंगीन डॉक्यूमेंट को छापने में इस्तेमाल किया जाता हैं।

इस Printer को पेशेवर किया करते हैं यह महंगे होते है।

थर्मल प्रिंटर :

थर्मल Printer गर्मी का उपयोग कर प्रिंट करता है इसमें इंक का उपयोग नहीं होता यह आकार में छोटे होते हैं इसमें सिर्फ एक ही रंग का उपयोग किया जा सकता है।

थरमल प्रिंटर कैसे कार्य करता है यह प्रिंट के लिए थर्मल पेपर का उपयोग करता है इसके अंदर प्रिंट करते समय कोई भी पार्ट हिलता नहीं है जिस प्रकार अन्य Printer में होता है।

इलेक्ट्रो मैग्नेटिक प्रिंटर :

इलेक्ट्रो मैग्नेटिक वह Printer है जो एक मिनट में 20 से 25 पेज प्रिंट कर सकता है इसका यह मतलब है कि 10000 से 20000 लाइन एक बार में प्रिन्ट करता है।

नॉन इंपैक्ट प्रिंटर क्या है ?

लेज़र प्रिंटर को नॉन इंपैक्ट प्रिंटर के नाम से जानते हैं।

इसकी प्रिंटिंग क्वालिटी टाइप राइटर की प्रिंटिंग से अच्छी होती है इसमें टाइप राइटर की तरह हेमर इंक रिबन को पुश नहीं करता है इसमें ऑटोमैटिक प्रिंट होता है।

इंपैक्ट प्रिंटर और नॉन इंपैक्ट प्रिंटर प्रिंटर की तुलना:

  • इंपैक्ट Printer में काम करते समय अधिक आवाज आती है परन्तु इसकी तुलना मे नॉन इंपैक्ट Printer में किसी भी प्रकार से आवाज़ नहीं आती है।
  • दोनो की क्वालिटी में बहुत अन्तर होता है इंपैक्ट Printer की क्वालिटी की बात करें तो यह ज़्यादा अच्छे नहीं होते नॉन इंपैक्ट Printer की तुलना में।
  • इंपैक्ट Printer सस्ते होते है और नॉन इंपैक्ट Printer ज़्यादा मंहगे होते है।

Printer को कंप्यूटर से कनेक्ट कैसे किया जाता है ?

प्रिंटर दो तरह से कनेक्ट किया जाता है।

आप उसे ब्लूतूथ से भी कनेक्ट कर सकते है जो और वायरलेस होता है।

और वायर से भी कर सकते है Printer को PC से कनेक्ट करने के लिए विंडो में आपके Printer का नाम आता है उस पर क्लिक करने पर वह कंप्यूटर से कनेक्ट हो जाता हैं। इसी तरह आप ब्लूतूथ से कनेक्ट कर सकते है।

Printer इस्तेमाल कहा किया जाता है ?

Printer का विभिन्न स्थानों पर उपयोग किया जाता है जैसे किताबों के बड़े-बड़े कारखानों में, दैनिक जागरण जैसे न्यूज़ पेपर को प्रिंट करने के लिए, फ़ोटो की दुकान पर आदि मौजूद स्थानों पर।

इन्हे भी पढ़ें :

अंतिम शब्द :

Printer की यह जानकारी आपको कैसी लगी आशा करते हैं यह आपके लिए हेल्पफुल होगी।

हमारे साथ जुड़े रहने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top