Hard Copy और Soft Copy में क्या अंतर है, हार्ड & सॉफ्ट कॉपी किसे कहते है

इस पेज पर Hard Copy और Soft Copy किसे कहते और इन दोनों में क्या अंतर है होता है बताया गया है।

इसलिए आप इस पेज के अंत तक बनें रहें है।

SOFT Copy क्या है ?

soft copy

सॉफ्ट कॉपी एकमात्र ऐसा दस्तावेज है जोकि दृश्य तो होता है

परंतु यह एक अस्पर्शय दस्तावेज है जिसको इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में पाया जाता है जैसे-कंप्यूटर, टैब, लैपटॉप इत्यादि उपकरण सॉफ्ट कॉपी को उपभोक्ताओं तक उपलब्ध कराने के माध्यम होते हैं तथा सॉफ्ट कॉपी का उपयोग आज हर एक क्षेत्र में किया जाता है।

चाहे वह शिक्षा से संबंधित हो या ऑफिस का कार्य सॉफ्ट कॉपी अलग-अलग क्षेत्र में अपनी निम्न भूमिकाएं निभाता है तथा सॉफ्ट कॉपी एक महत्वपूर्ण साधन है, सॉफ्ट कॉपी के द्वारा ही आप एक दूसरे को आदान – प्रदान मेल द्वारा कर सकते है। जिसे सॉफ्ट कॉपी कहते है।

Hard कॉपी क्या है ?

Hard Copy

हार्ड कॉपी ऐसा दस्तावेज होता है जिसको प्रिंटर द्वारा प्रिंट करके उपभोक्ताओं को उनकी जरूरतों के अनुसार उपलब्ध कराया जाता है तथा यह दृश्य होने के साथ-साथ स्पर्श भी किया जा सकता है। कंप्यूटर में उपस्थित सॉफ्ट कॉपी को प्रिंट करके प्रिंटआउट की सहायता से हार्ड कॉपी में भी बदला जा सकता है इसी तरह की कॉपी को हम हार्ड कॉपी के नाम से जानते हैं।

Hard Copy और Soft Copy के बीच अंतर:

हार्ड कॉपी :

  • हार्ड कॉपी के माध्यम से आप फाइल भेज सकते हैं, छू सकते है, परंतु इसमें दो-तीन दिन का समय लग जाता है।
  • आपके ऑफिस में आपके हाथ में उपस्थित हार्ड कॉपी के रूप में आवश्यक दस्तावेज कार्य के प्रति आपकी पंक्चुअलिटी को प्रदर्शित करता है।
  • हार्ड कॉपी में उपस्थित महत्वपूर्ण दस्तावेज के फटने तथा खोने की संभावना अधिक होती है।
  • Hard Copy के रूप में दस्तावेज‌ लंबे समय तक उपयोग किए जा सकते है।
  • हार्ड कॉपी का उपयोग सभी उम्र तथा पढ़े लिखे और अनपढ़ दोनों ही कर सकते हैं।
  • Hard Copy का इस्तेमाल ज्यादातर सार्वजनिक कार्यों में किया जाता हैं।
  • हार्ड कॉपी का ज्यादातर उपयोग ऑफिस में बॉस तथा एंप्लॉय को कंपनी की जानकारी देने में इस्तेमाल किया जाता है।

सॉफ्ट कॉपी :

  • यदि आप किसी को सॉफ्ट कॉपी की सहायता से संदेश भेजते हैं तो इसके माध्यम से वह प्रक्रिया 2 से 3 मिनट में सफलता पूर्वक पूर्ण होती है।
  • सॉफ्ट कॉपी की सहायता से आप अपनी बड़ी से बड़ी प्रेजेंटेशन को बड़ी ही खूबसूरती से प्रदर्शित कर सकते हैं।
  • इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में विद्यमान सॉफ्ट कॉपी के रूप में दस्तावेज फाइल के रूप में सहेज सुरक्षित होता है।
  • सॉफ्ट कॉपी में दस्तावेज को पीडीएफ के माध्यम से भी प्राप्त करते हैं।
  • सॉफ्ट कॉपी का प्रयोग कर आप पेड़ों तथा पर्यावरण दोनों की ही बचाव करते हैं।
  • Soft Copy में लम्बे समय तक इलेक्ट्रानिक खराबी के कारण दस्तावेजों की हानि हो सकती हैं।
  • सॉफ्ट कॉपी का उपयोग सिर्फ इलेक्ट्रानिक उपकरणों के उपभोगता और पढ़े लिखे व्यक्ति ही कर सकते है।
  • सॉफ्ट कॉपी को आप व्हाट्सप और मेल के माध्यम से अपने साथियों को भेज सकते है।

इन्हे भी पढ़ें :

अंतिम शब्द:

आशा करता हूँ की मेरे द्वारा इस पेज के माध्यम से उपलब्ध कराई गई जानकारी आपको सही लगा होगा।

यदि सही लगे तो अपने दोस्तों को शेयर जरूर करें।

कोई प्रश्न है तो हमें कमेंट करें।

हमारे साथ जुड़ने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

धन्यवाद।

admin

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम शिव है Help Guide India ब्लॉग पर आपका स्वागत है यहाँ पर आपको Employee Help, Study, Internet, Technical, Computer नॉलेज से सम्बन्धित सभी जानकारी हिंदी भाषा मिलेंगी, Help Guide India वेबसाइट का एक ही मकसद है, आपकी मदत करने में आपकी मदत करता है इसलिए इस Hindi Blog से जुड़े रहने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल व फेसबुक को फॉलो करें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Scroll to top
error: Content is protected !!