बाल दिवस

बाल दिवस पर निबन्ध, हिंदी में पढ़ें और सीखें

इस पेज पर बाल दिवस पर निबन्ध कैसे लिखा जाता है जानकारी शेयर की गई है।

जिसे पढ़कर आप बाल दिवस पर निबन्ध लिख सकते है।

इससे पहले हमने दीपावली पर निबन्ध कैसे लिखें जानकारी शेयर की थी आप इस को अवश्य पढ़ें।

स्कूलों में पांचवी से लेकर बारहवीं कक्षा तक के बच्चों के लिए कक्षा अध्यापक द्वारा बाल दिवस पर निबन्ध लिखने को कहा जाये तो आप हमारे दिए इस पोस्ट के माध्यम से एक अच्छा सा निबंध लिखकर कक्षा अध्यापक को दें सकते है।

परिचय एवं बाल दिवस क्यों मानते है ?

इस दिन भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर 1889 हुआ था। नेहरू जी बच्चों से बेहद प्यार करते थे उन्हें बच्चे चाचा नेहरू कहते थे। उन्होंने अपना जन्मदिन बच्चों को समर्पित कर दिया। इसलिए 14 नवंबर को बड़ी धूमधाम से बाल दिवस मनाया जाता है। इस अवसर पर पुरे देश भर में मेले लगाए जाते हैं।

ये तो आपको पता ही होगा भारत के प्रधानमंत्री के रूप में अपने व्यस्त जीवन के बावजूद भी वे बच्चों से बेहद लगाव रखते थे उन्हें बच्चों के साथ खेलना बहुत पसंद था। नेहरू चाचा को श्रद्धांजलि देने के लिए 1956 से बाल दिवस के रूप में उनके जन्मदिन को मनाया जानें लगा।

नेहरू जी कहते थे कि बच्चे देश का भविष्य है इसलिए उन्हें प्यार और देखभाल जरूर मिलना चाहिए जिससे कि वह अपने पैरों पर खड़े हो सके और देश और बच्चों के उज्जवल भविष्य सुरक्षित करने के लिए किसी भी प्रकार के नुकसान से बचाने के लिए बाल दिवस सभी के लिए एक आवाहन स्वरूप है।

बाल दिवस के अवसर पर क्या होता है स्कूलों में :

इस दिन स्कूल की छुट्टी नहीं होती है इस दिन बच्चे स्कूल में अलग-अलग प्रतियोगिताएं, भाषण, कला, कविता जैसी सांस्कृतिक कार्यक्रम करवाते हैं। कुछ स्कूलों में जीतने वाले विद्यार्थियों को स्कूल की तरफ से सम्मानित भी किया जाता है।

इस अवसर को आयोजित करने की जिम्मेदारी स्कूलों ही नहीं बल्कि किसी सामाजिक और संयुक्त संस्थाओं की भी होती है। इस दिन बच्चों के लिए अनेक प्रकार की प्रतियोगिताएं भी होती है।

बच्चे इन प्रतियोगिता में बहुत उत्साह से भाग लेते हैं।

चाचा नेहरू के बारे में महत्वपूर्ण बातें :

बाल दिवस के दिन चाचा नेहरू को याद किया जाता है तथा बच्चों को प्रेरणा दी जाती है कि वे चाचा नेहरू द्वारा बताए गए आदर्शों पर चलें और विद्यालय में अनेक कार्यक्रम द्वारा हमें चाचा नेहरू के जीवन के बारे में और उनके कार्यों के बारे में जानकारी दी जाती है।

ये तो आप जानते ही है की बाल दिवस बच्चों का दिन है बच्चों के विकास से ही समाज और देश का विकास है बच्चों को चाचा नेहरू की तरह देशभक्त बनने की कोशिश की जाती है।

कहीं-कहीं पर बाल मेला भी लगता है जिसमें बच्चे अपनी बनाई वस्तुओं की प्रदर्शनी लगाते हैं और अपनी कला का प्रदर्शन करते हैं।

बच्चों के बारे में :

ये तो पता ही होगा की बच्चों का मन बहुत ही कमजोर होता है उनके सामने की हर छोटी चीज या बात उनके दिमाग में असर डालती है। उनका आज देश के आने वाले कल के लिए बेहद जरूरी है इसलिए उनके क्रियाकलाप उन्हें दिए जाने वाले संस्कार पर हमें विशेष रूप से ध्यान देना चाहिए।

इसके साथ ही हमें बच्चों की मानसिक और शारीरिक सेहत का भी ख्याल रखना चाहिए। बच्चों की सही शिक्षा, पोषण संस्थान मिलना हमारे देश के हित के लिए काफी जरूरी है क्योंकि आज के बच्चे ही कल का भविष्य हैं जो भी हो वह कार्य के लिए संपर्क होकर तभी देश आगे बढ़ेगा।

बाल दिवस का इतिहास :

अलग-अलग देशों में बाल दिवस मनाने की तारीख अलग होती है। यूनाइटेड नेशंस ने 1954 को बाल दिवस स्थापित किया और हर साल से 20 नवंबर को मनाने की घोषणा की गई थी।

भारत में 1964 में जवाहरलाल नेहरू की मृत्यु  के बाद से 14 नवंबर को बाल दिवस मनाया जाने लगा। सबकी सहमति से ये निर्णय लिया गया। आजादी के बाद पंडित नेहरू की प्राथमिकता बच्चों की शिक्षा रही। बच्चों के लिए बेहतर काम करना उनका एजेंडा हमेशा से था।

निष्कर्ष:

बच्चे देश का भविष्य है इसलिए हम सभी को बच्चों की शिक्षा की तरफ ध्यान देना चाहिए। बाल दिवस के अवसर पर केंद्र तथा राज्य सरकार बच्चों के विकास के लिए कई कार्यक्रमों की घोषणा की है।

बच्चों को स्वस्थ, निर्भीक और योग्य नागरिक बनाने में पूर्ण योगदान देना चाहिए बाल दिवस मनाना तभी सार्थक होगा जब मेरे देश का हर बच्चा स्कूल पढ़ने जाएगा और बाल मजदूरी के नामो निशान मिट जाएगा।

दुनिया का सबसे सच्चा समय,

दुनिया का सबसे अच्छा दिन,

सबसे हसीन पल,

सिर्फ बचपन में ही मिलता है,

इसलिए आप सभी को बाल दिवस की बधाई।

इन्हे भी पढ़ें :

अंतिम शब्द :

आशा करता हूँ की आपको बाल दिवस पर निबन्ध कैसे लिखें जानकारी सही लगी होगी।

यदि सही लगे तो अपने दोस्तों में शेयर जरूर करें।

आपके मन में कोई शंका है तो हमें कमेंट करें।

admin

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम शिव है और Help Guide India ब्लॉग पर आपका स्वागत है यहाँ पर आपको Employee Help, Study, Internet, Technical, Computer नॉलेज से सम्बन्धित सभी जानकारी हिंदी भाषा मिलेंगी, Help Guide India वेबसाइट का एक ही मकसद है आपकी मदत करने में आपकी मदत करता है इसलिए इस Hindi Blog से जुड़े रहने के लिए हमें फेसबुक व् इंस्टाग्राम में फॉलो करें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top