URL क्या है? URL कैसे बनायें ? सम्पूर्ण जानकारी

URL

क्या आप URL की पूर्ण जानकारी से परिचित है यदि नहीं तो आइये इस कंटेंट के माध्यम से यूआरएल की पूरी जानकारी प्राप्त करते हैं तथा उन सभी विषयों पर नजर डालेंगे।

जो यूआरएल से संबंधित है जैसे -यूआरएल क्या होता है, यूआरएल का इस्तेमाल कहाँ किया जाता है, यूआरएल का उपयोग कैसे सीखे तथा यह किस प्रकार हमारे लिए लाभ उत्पन्न करता है इन सभी विषयों पर विस्तार से चर्चा करेंगे|

URL क्या है?

यूआरएल एक फॉर्मेटेड टेक्स्ट ट्रीनस है जिसका इस्तेमाल ब्राउज़र, ईमेल या किसी अन्य सॉफ्टवेयर में इस्तेमाल किया जाने वाला एक प्रकार का साधन होता है जिसके अंतर्गत यूआरएल किसी नेटवर्क साधन किसी भी तरह की फाइल हो सकती है।

उदाहरण के लिए- वेब पेजेस, टेक्स्ट डाक्यूमेंट्स, ग्रैफिक्स या प्रोग्राम आदि सादर होते हैं यूआरएल नेटवर्क प्रोटोकोल को परिभाषित करता है जिससे किसी नेटवर्क को सर्च किया जा सके तथा यह स्प्रिंग्स ज्यादातर छोटे नाम के होते हैं।

जिसके पास 3 महत्वपूर्ण चरित्र होते हैं यह एक कठिन नाम तथा कन्वर्सेशन है जो की प्रोटोकॉल की परिभाषा को प्रदर्शित करता है टिपिकल प्रोटोकॉल जिसका इस्तेमाल HTTP और FTTP आदि।

URL की फुल फॉर्म :

Uniform Resource Locator यूआरएल की फुल फॉर्म है।

URL होस्ट स्ट्रिंग्स:

URL होस्ट सबस्ट्रिंग की मदद से किसी भी डेस्टिनेशन कंप्यूटर नेटवर्क डिवाइस को परिभाषित किया जा सकता है।

तथा होस्ट रेंडर इंटरनेट डेटाबेस से ही आते हैं जैसे कि DNS जिसे हम आईपी ऐड्रेस से भी जानते हैं तथा आपने देखा होगा कई वेबसाइट होस्ट के नाम एक कंप्यूटर को नहीं दर्शाता बल्कि सर्वर के समूहों को दर्शाता हैं।

यूआरएल लोकेशन स्ट्रिंग्स किसी एक खास नेटवर्क को दर्शाता हैं जो की होस्ट में मौजूद होती हैं रिसोर्स मुख्यतः किसी होस्ट डायरेक्टरी यह फाइल में होती है ।

यूआरएल का निर्माण कब हुआ?

URL को‌ 1994 में निर्मित किया गया था इसके निर्माता टीम बर्नस ली तथा इंटरनेट के विशेषज्ञ इंजिनियर टास्क फोर्स ने किया था जैसा कि हम जानते है इंटरनेट की इस विशाल दुनिया में यूआरएल का बहुत बड़ा योगदान योगदान है इसके माध्यम से हम किसी भी वेबसाइट पर सेकंड में पहुंच सकते है।

URL‌‌ की हिस्ट्री:

URL सबसे पहले टीम बर्नर्स ली ने दुनिया के सामने अपनी तरह से प्रस्तुत किया और बताया कि यह एक ऐसा ऑर्गेनाइजेशन है जो वेब पेजेस को यूनिट लोकेशन एड्रेस बताता है।

जिससे लोगों को उन्हें खोजने में परेशानी ना हो HTML को बनाने के बाद मुख्य भाषा का उपयोग करके वर्ल्ड वाइड वेब बहुत सारे पेजेस को बनाया उसके साथ हाइपरलिंक को जोड़ दिया गया जिससे इंटरनेट दिन प्रतिदिन बढ़ता गया। यह यूआरएल का पुर्ण इतिहास है।

URL कैसे बनायें ?

कस्टम यूआरएल बनाते समय आपको कुछ बातों का ध्यान रखना चाहिए वरना आपका यूआरएल सक्सेसफुल नहीं होता जैसे आपके चैनल पर कुल 100 सब्सक्राइबर हो, आपका चैनल कुल 1 माह पुराना हो तथा चैनल पर आइकन और आर्ट होना आवश्यक है तब आप यूआरएल प्रक्रिया शुरू कर सकते है।

यूआरएल को बनाने के लिए नीचे दिए गए चरण को फॉलो करें –

  • चैनल का कस्टम यूआरएल बनाने के लिए अपनी प्रोफाइल में यूट्यूब स्टूडियो पर क्लिक करें।
  • उसके बाद आप देखते हैं यूट्यूब में सेटिंग आप्शन मिलता है उस पर क्लिक करें।
  • सेटिंग में चैनल ऑप्शन पर क्लिक करें तथा चैनल ऑप्शन में एडवांस सेटिंग पर क्लिक करें।
  • उसमें नीचे स्क्रॉल करते ही यूट्यूब अकाउंट पर क्लिक करें।
  • जिससे आपको एक नया टैब मिलता है उसमें एडवांस सेटिंग को चुने।
  • एडवांस सेटिंग में आप देखते हैं आप कस्टम यूआरएल के लिए एलिजिबल होते है।
  • जिसमे आपको अपना यूआरएल बनाना होगा उससे पहले आपको टर्म्स को एक्सेप्ट करना होगा।
  • उसके बाद चेंज यूआरएल पर क्लिक करें और अपना यूआरएल बनायें।

आप देखते हैं इन सभी चरणों को फॉलो करने के बाद यूआरएल बन कर तैयार हो जाता हैं।

इन्हे भी पढ़ें :

अंतिम शब्द:

आशा करता हूँ की URL से जुडी यह जानकारी आपको पसंद आई होगी क्योंकि यूआरएल इंटरनेट का एक महत्वपुर्ण हिस्सा है तथा यूआरएल आपको आपके चैनल के माध्यम से अन्य लोगो से जोड़ता है।

और सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचलित करता है और यह जानकारी आपको आपके चैनल का यूआरएल बनाने में सहायता करेंगी|

हमारे साथ जुड़ने के लिए हमारे यूट्यूब चैनल को सब्सक्राइब करें।

धन्यवाद|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to top
error: Content is protected !!